Mesurer l'élasticité de la demande | Hindi | Économie

Lisez cet article en hindi pour en savoir plus sur les quatre méthodes principales utilisées pour mesurer l'élasticité de la demande d'un produit.

1. या आनुपातिक रीति (méthode du pourcentage ou proportionnelle):

रीति का प्रतिपादन प्रो. (Flux) किया था। रीति हैं।

रीति के अनुसार ,

.

जहाँ :

P 1 = कीमत,

Q 1 = पूर्व माँग,

P 2 = कीमत,

Q 2 = नवीन माँग

(दो)

की त्रुटिपूर्ण है। Taux moyen (moyen) taux moyen (moyen) taux moyen

के, बल्कि बिन्दु बिन्दु कीमत है।

द्वारा स्पष्टीकरण:

की है।

2. Méthode de calcul des dépenses ou des dépenses totales (कुल अथवा व्यय):

मार्शल है। अनुसार माँग

परिवर्तन। में, ।

व्यय = कुल आगम

= की कीमत x वस्तु माँग

व्यय

द्वारा होते होते हैं:

(a) के बराबर माँग लोच (égale à l'élasticité d'unité):

में में,

b) से अधिक माँग लोच (élasticité supérieure à l'unité):

घटने में,

c) से कम माँग लोच (élasticité inférieure à l’unité):

के में,

द्वारा स्पष्टीकरण:

a) के बराबर माँग लोच:

व्यय अपरिवर्तित, इकाई के बराबर है।

b) से अधिक माँग लोच:

c ) से कम माँग लोच:

स्थितियों को चित्र 9 प्रदर्शित किया गया है:

में A से B तक

B से C।

C से D

3. ज्यामिति रीति अथवा रीति (méthode géométrique ou méthode ponctuelle):

। DD माँग वक्र के बिन्दु R पर R AB खींची जाती है AB ढाल (pente) R बिन्दु DD एक समान।।

जानते हैं कि ,

बिन्दु की स्पर्श) दूरी विभाजित (Diviser)

10 बिन्दु R पर R पर AB स्पर्श रेखा खींची गयी RB निचला भाग (secteur inférieur) तथा RA ऊपरी (secteur supérieur) है।

बिन्दु R पर माँग की लोच

माँग

माँग El अलग अलग अलग अलग अलग अलग है (différents points sur la même courbe de demande ont une élasticité de demande différente)

11 ही वक्र DD पर P एवं Q अलग हैं।

है बिन्दु P तथा Q पर माँग अलग अलग

Définition de divers degrés d'élasticité de la demande sur une courbe de demande linéaire:

रेखा

12 में AB एक सरल रेखा है।

(i) R R B (RB) के (AR) के बराबर Sector (secteur inférieur = secteur supérieur)

(ii) A पर की क्योंकि, क्योंकि बिन्दु A पर ऊपर का शून्य है (secteur supérieur égal à zéro)

(iii) B पर, का। (Le secteur inférieur est zéro)

(iv) रेखा RB मध्य बिन्दु क्योंकि रेखा Lower (Secteur inférieur <Secteur supérieur <):

v) AR है है है (Secteur inférieur> Secteur supérieur) Lower

से

4. लोच रीति (Méthode d'élasticité à l'arc):

परिवर्तन दशाओं में,

प्रणाली के अनुसार :

द्वारा स्पष्टीकरण:

की की जायेगी:

में है तब:

माँग माँग की सही लोच 3 है।

कीमत है। माँग की लोच 3 (इकाई से अधिक)।

 

Laissez Vos Commentaires