Ligne Iso-Cost: avec schéma | Hindi | Fonction de production | Économie

Lisez cet article en hindi pour savoir comment déduire la courbe iso-coût sur la courbe iso-produit.

Frais d'acquisition (Coût)

9 में RS, R 1 S 1 R 2 S 2 तीन Out (Dépenses) स्पष्ट करती। RS Rs. 200 बताती है। साधन X की इकाई कीमत P x X की

OS इकाइयाँ खरीद सकेगा।

लागत व्यय Rs. 200 पर यदि साधन Y की P y होने Y की

OU खरीद सकेगा। उत्पादक R बिन्दु S के हैं हैं। दोनों RS के लागत लागत

साधन X तथा साधन Y की P x P y व्यय Rs. 400 जाने पर 1 R 1 S 1 लागत व्यय Rs. 600 पर रेखा R 2 S 2 जाती है। साधन

जितना साधन ओर स्थानान्तरित होती जायेगी। में, साधन, -के (pente)

रेखा का ढाल =

(केवल, जा)

Sl प्रकार, कीमत कीमत Sl Sl Sl Sl Sl को Sl Sl (La pente d'une ligne Iso-coût indique le ratio des prix des intrants)

रेखा हैं।

निम्नलिखित हैं:

(1) तथा साधन Y साधन कीमत X की (या कमी)।

में यदि अन्य (व्यय के) X की कीमत 1 1 1 जबकि Y -अक्ष वाला बिन्दु R अपनी जगह स्थिर रहेगा क्योंकि साधन X महँगा (coûteux) हो जाने पर उत्पादक उसी लागत व्यय से अब साधन X की कम मात्रा खरीद पायेगा [चित्र 10 देखें (A)] |

के X की X की मात्रा खरीद पायेगा [चित्र 10 (B)] |

(2) तथा साधन X की Y की कीमत में (या कमी) जाये।

में साधन का R मूलबिन्दु R 1 (A) ] |

R 2 पर 11 (B)] |

 

Laissez Vos Commentaires