Essai sur l'élasticité de la demande | Hindi | Économie

Voici un essai sur «L'élasticité de la demande et sa mesure» pour les classes 9, 10, 11 et 12. Trouvez des paragraphes, des essais longs et courts sur «L'élasticité de la demande et sa mesure» spécialement écrits pour les étudiants des écoles et collèges en hindi la langue.

Essai sur l'élasticité de la demande


Contenu de l'essai:

  1. (Introduction à l'élasticité de la demande)
  2. की लोच की परिभाषा (définition de l'élasticité de la demande)
  3. लोच ity Fact (facteurs influençant l'élasticité de la demande)
  4. की लोच के विचार का Sign (signification du concept d'élasticité de la demande)
  5. Rapport entre le revenu marginal, le revenu moyen et l'élasticité de la demande


Essai n ° 1. प्रारम्भिक (Introduction à l'élasticité de la demande):

की

नियम .

लोच अर्थशास्त्रियों को परिमाणात्मक Statement Statement (déclaration quantitative) में,

अभिप्राय प्रवृत्ति। लिए, बातों -

का, ऐसी ऐसी।

कुछ के


Essai n ° 2 . की लोच की परिभाषा ( définition de l'élasticité de la demande):

लोच

के अनुसार

शब्दों, माँग लोच कीमत ”

1 में DD माँग वक्र है। वक्र बिन्दु P पर OC कीमत OA है। Δ ΔP ΔQ। में, है।

चित्रानुसार,

जहाँ,

ΔQ = में परिवर्तन

ΔP = कीमत में परिवर्तन

Q = माँग

P = अरम्भिक कीमत

की लोच ऋणात्मक (Négatif) क्योंकि। अतः


Essai n ° 3 . Fact लोच को करने Fact ( facteurs influençant l'élasticité de la demande):

लोच होती है:

A. की प्रकृति (nature des marchandises):

आधार सकता है:

(i) वस्तुओं (Nécessaires), गेहूँ, हैं।

(ii) वस्तुओं (confort) साधारण

(iii) की वस्तुओं (Luxuries) माँग है। की

B. वस्तुएँ (substituts):

वस्तु

वस्तु, कॉफी, गुड़, हैं। अनेक।।

C. के वैकल्पिक प्रयोग (utilisations alternatives):

वस्तु, तो लोचदार। के लिए, कोयला रेलगाड़ियों,,, ।

लिए, का लगेंगे।

D. स्थगन (report de consommation):

वस्तु, तो माँग है। लिए, हैं। ऊनी तो में।।

E. व्यय की राशि (montant des dépenses):

की पर

कारण है कि,,,,, ।

F. ( revenu):

भी है। के .

G. का वितरण (Distribution de la richesse):

(Taussig)

असमान का समान, परिवर्तन

H. माँग अथवा वस्तुओं को Demand (demande conjointe ou complémentarité des marchandises):

ऐसी।। वस्तुएँ पूरक कहलाती हैं। के लिए, दियासलाई-, -, -मोजा आदि।

कीमत है। चलाने है। पेट्रोल है।

I. एवं आदत (Nature et Habit):

किसी


Essai n ° 4 . Sign Concept ity के का Sign ( signification du concept d'élasticité de la demande):

महत्व लोच (théorique)

विभिन्न निम्नलिखित निम्नलिखित है:

1. सिद्धान्त में (Dans la théorie de la valeur):

अनुसार, । में समय।

सदैव (MR = MC)

में,

2. के लिए उपयोगी (utile pour le monopoleur):

लाभ को विभेद-(discrimination de prix)

में वाले

3. सिद्धान्त में ( Dans la théorie de la distribution):

साधनों। की माँग होकर व्युत्पन्न Demand (demande dérivée) है।

उन। मिल

4. के लिए उपयोगी (utile pour le gouvernement):

वित्तमन्त्री से से है।

की लोचदार

भार है। माँग। दृष्टिकोण

बेलोचदार विपरीत, भार कर भार।

लोच के है।

, विद्युत, स्वास्थ्य,, हैं। है।

5. व्यापार (Théorie du commerce international):

देशों के बीच की Terms (Conditions générales de vente)। के। माँग है।

6. भाड़े की दर (tarif et fret):

भाड़े जिन्हें


Essai n ° 5 . Rapport entre le revenu marginal, le revenu moyen et l’élasticité de la demande:

लोच, है।

राबिन्सन किया किया है:

को हैं:

यह

, वस्तु अधिक में सीमान्त, के होगी।

:

: लोच में सम्बन्ध

20

(i) वक्र DD 1 A है। है।

के अनुसार:

A बिन्दु पर

20 देखने से AP के बराबर, आगम है।

(ii) X-अक्ष पर इसी प्रकार के अन्य लम्ब खींचकर विभिन्न उत्पादन के स्तरों पर औसत आगम तथा सीमान्त आगम मालूम किया जा सकता है ।

इस सम्बन्ध में उल्लेखनीय है कि :

(a) जब माँग की लोच एक से अधिक हो जैसा A बिन्दु के ऊपर है तो सीमान्त आय धनात्मक होती है ।

(b) जब माँग की लोच एक से कम होती है जैसा कि A के नीचे की ओर है तो सीमान्त आय ऋणात्मक होती है ।

(c) जब माँग का लोच अनन्त होती है जैसा कि D बिन्दु पर है तो सीमान्त आगम औसत आगम के बराबर होती है ।

(d) जब माँग की लोच शून्य होती है जैसा कि D 1 बिन्दु पर है तो सीमान्त आगम और औसत आगम का अन्तर सबसे बड़ा होता है ।


 

Laissez Vos Commentaires